0

 लघु फ़िल्म 'दुष्काळ ' में अविस्मरणीय भूमिका के लिए रमाकांत मुंडे को वेस्टर्न इंडिया फिल्म प्रोड्युसर असोसिएशन के अध्यक्ष संग्राम शिर्के के हाथो 3 रे ईफ्फ गोवा फेस्टिवल के लिये मुंबई में सम्मानित किया गया।रमाकांत मुंडे फिल्म क्षेत्र में एक प्रतिष्ठित फोटोग्राफर, पीआरओ और कलाकार हैं। पिछले साल, आईएनएन-मुंबई और गोवा सरकार के कला संस्कृति निदेशालय द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित तीसरे भारत अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव - ईफ्फ महोत्सव - के कुछ प्रमुख पुरस्कारों का वितरण हाल ही में मुंबई में वेस्टर्न इंडिया प्रोड्यूसर्स एसोसिएशन के हॉल में गणमान्य लोगों की उपस्थिति में हुआ। 
पिछले दो वर्षों से मुंबई में ईफ्फ मनाया जाता है। 2018 से गोवा में प्रायोगिक आधार पर आयोजित ईफ्फ कला, साहित्य, संस्कृति और फिल्म के इस तीसरे पर्व मे कला के देशी विदेशी प्रशंसकों ने बड़े उत्साह के साथ शामिल हुए।
 मराठी दैनिक गोवादूत के संपादक वामन प्रभु ने "ईफ्फ के आयोजन से गोवा में एक नया कलात्मक सांस्कृतिक आंदोलन शुरू हुआ है" । ऐसे शब्दों मे ईफ्फ महोत्सव के महत्त्व को अधोरेखित किया।
2016 में, मुंबई विश्वविद्यालय के तत्कालीन कुलपति डॉ. संजय देशमुख ने ईफ्फ के आयोजक करण समर्थ की कला, संस्कृति, साहित्य और फिल्मों के माध्यम से मानवता के संदेश को हम प्रभावी रुप से महोत्सव के लोकप्रिय मंच द्वारा प्रसारित कर सकते है, इस विचार के साथ सहमति व्यक्त करते हुए मुंबई विश्वविद्यालय ने ही ईफ्फ फेस्टिवल का आयोजन किया। 
2016 का साल, डाॅ. बाबासाहेब अम्बेडकर की 125 वीं जयंती के उपलक्ष मे ईफ्फ महोत्सव का शुभारंभ मुंबई विश्वविद्यालय के सांताक्रूज कलिना प्रांगण में किया गया। प्रथम ईफ्फ का उदघाटन मुबंई विश्वविद्यालय के संचालक डाॅ. नीरज हातेकर और गणमान्य लोगों की उपस्थिति में किया गया था। ईफ्फ का पहला सत्र 16 - 22 मार्च 2016 के इन आठ दिनों में हुआ। 
ईफ्फ के प्रथम सत्र मे विश्व के 62 देशों से 1610 फिल्मे आयोजक आयएनएन के पास दाखिल हुई। सन 2017 मे व्दितीय ईफ्फ के 8 दिवसिय महोत्सव भी मुंबई विश्वविद्यालय के इसी प्रांगण मे उत्साह के साथ संपन्न हुआ। ईफ्फ के सल्लागार तथा कार्यकारी समिती मे विभिन्न क्षेत्र के देशी विदेशी जानेमाने मान्यवर सहभागी है। 
2018 मे मुबंई के साथ गोवा में भी ईफ्फ के तीसरे सत्र को आयोजित करने के करण समर्थ के प्रयासों को गोवा सरकार के कला संस्कृति मंत्री गोविंद गावडे ने भी मंजूरी दे दी और आईएनएन मुंबई और गोवा के कला संस्कृति निदेशालय के संयुक्त उद्यम के साथ पणजी शहर के आईएमबी परिसर मे 3 रे इंडिया इंटरनॅशनल फिल्म फेस्टिव्हल -ईफ्फ गोवा 2018 का आयोजन दिं. 24 से 31 दिसंबर इन आठ दिवसों मे बड़े उल्हास के साथ किया गया।मंत्री गोविंद गावड़े जी  ने यह भी महसूस किया कि ईफ्फ महोत्सव के कारण गोवा में भारतीय संस्कृती, सभ्यता सम्मान के साथ फिल्मी क्षेत्र में कई नए अवसर मिलेंगे, यह आयोजक करण समर्थ का दावा है। 
अनिवासी भारतीय निर्माता अधीर गणेश हिंदी फिल्म '22 डेज' को सर्वोत्तम अनिवासी भारतीय फिल्म,
 सूरज तिवारी की फिल्म 'आय अॅम झिरो', को विशेष सामाजिक फिल्म, गिरीश वानखेड़े को सर्वश्रेष्ठ फिल्म पुरस्कार वितरण विपणन सलाहकार का तो एस मोहन कृष्णनन की 'पणजी टाइम लैप्स' को विशेष प्रदर्शन का पुरस्कार प्रदान किया गया। 
मनोरंजन के क्षेत्र में जानीमानी 'कम्प्लीट सिनेमा' को सर्वश्रेष्ठ मीडिया, 'भारत फिल्म निर्यातक संघ' के सचिव नंदकुमार बेले और 'भारत फिल्म राइटर्स एसोसिएशन' के अध्यक्ष रवींद्र अरोड़ा, 'म्यूज़िक फेडरेशन ऑफ़ इंडिया' के अध्यक्ष किशोर जावडे और प्रोडक्शन को-वर्कर कुमारी श्रद्धा को सराहा गया है। यह पुरस्कार ईफ्फ के करण समर्थ, कलाकार विवेक शेट्टी, वेस्टर्न इंडिया प्रोड्यूसर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष संग्राम शिर्के तथा सचिव दिलीप दळवी व्दारा प्रदान किए गए।पुरस्कार समारोह में आयोजक करण समर्थ के साथ मॉरीशस से आए निर्माता अधीर गणेश, कलकत्ता के निर्माता किरण बनसोडे, जयपुर के मान, कलाकार विवेक शेट्टी, वेस्टर्न इंडिया फिल्म प्रोड्यूसर्स संग्राम शिर्के, सचिव दिलीप दलवी, एफएमसी के धरम, फिल्म एक्सपोर्टर्स एसोसिएशन के सचिव नंदकुमार बेले, इंडिया फिल्म राइटर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष रवींद्र अरोड़ा, म्यूजिक फेडरेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष किशोर जावड़े, वितरक गिरीश वानखेड़े, निर्माता आर बी गौतम, प्रोडक्शन फेलो कुमारी श्रद्धा, सामाजिक कार्यकर्ता नंदकुमार कदम, कलाकार फोटोग्राफर रमाकांत मुंडे, कास्टिंग निर्देशक हैरी वर्मा उपस्थित थे।
ईफ्फ के आयोजक संचालक करण समर्थ के मुताबिक, 'भारत सरकार के विविध विभागों सहित फिल्मस डिव्हिजन, दूरदर्शन, एफटीआयआय, युथ होस्टेल, महाराष्ट्र सरकार के माहिती जनसंपर्क महासंचालनालय, मुंबई विश्वविद्यालय, गोवा सरकार के कला संस्कृती सचांलनालय, आयएमबी, गोमंतक मराठी अकादमी, कोकण मराठी परिषद, चेन्नई स्थित विश्वविख्यात एल. व्ही. प्रसाद फिल्म टीवी इन्स्टिट्युट तथा मनोरंजन क्षेत्र की कई प्रमुख संस्थांओं ने ईफ्फ मे सहभागी होकर ईफ्फ की नींव को मजबूत किया है।
 ईफ्फ आयोजक संचालक करण समर्थ ने आगे बताया, इन सरकारी संस्थाओ के साथ अमेरिकन यूर्निव्हसिटी ऑफ सदर्न कॅलीफोर्निया, चेक रिपब्लिक फामू विश्वविद्यालय के साथ कई देशों के प्रतिनिधी शामिल हुए। पहले तीन सालों मे ही 107 देश ईफ्फ मे शामिल हो गए है।

Post a comment

 
Top