0
यूँ देखा जाये तो दर्शकों को कॉमेडी , एक्शन से भरी फिल्में ज्यादा पसंद आती हैं । लेकिन किसी फिल्म में भावनात्मक पहलू को उचित ढंग से उभारने में निर्देशक कामयाब हो गया तो वह एक कालजयी फिल्म साबित हो जाती है । सोशल इमोशन को समाज तक पहुंचाने के लिए निर्देशक अभिमन्यु चौहान इन दिनों अपनी फिल्म ' डैडी'स डॉटर  ' के प्रमोशन में काफी व्यस्त हैं ।
 उन्होंने बताया कि इस फिल्म की कहानी  पिता - पुत्री के भावनात्मक संबंधों के लेकर बुनी गयी है । साथ ही साथ इसमें आज की परिस्थिति जहाँ एक नाबालिग लड़की किस तरह समाज की बुरी नज़रों से स्वयं को सुरक्षित रखे यह मैसेज देने की कोशिश की गयी है ।
 मैनपुरी उत्तरप्रदेश के अभिमन्यु चौहान आर्मी फैमिली से हैं । उन्होंने अपनी शिक्षा लखनऊ में पूरी की है । अभिनय की शौक के वजह से वह दर्पण थियेटर ग्रुप से जुड़कर कई नाटकों में काम किये । उसके बाद दूरदर्शन पर प्रसारित टेलीफिल्म भी करने का मौका मिला । और आगे बढ़ने की ख्वाहिश ने उन्हें मुम्बई खींच लायी । शुरूआती दिनों में अभिमन्यु ग़दर फिल्म में प्रोडक्शन का काम किए । फिर मनीषा कोइराला अभिनीत तन मन डॉट कॉम में चीफ असिस्टेंट डायरेक्टर के रूप में कार्य किये जिसके निर्माता प्रख्यात गायक सुरेश वाडकर थे । फिल्म करने के बाद उन्होंने अपना रुख़ टी वी प्रोडक्शन की ओर किया और कई सीरियल डायरेक्ट करते चले गए ।
बड़े पर्दे पर वापसी के लिए उन्होंने एक संवेदनशील सामाजिक मुद्दे को आधार बनाया और डैडी'स डॉटर शुरू किये ।
फिल्म के कलाकारों के लिए उन्होंने लखनऊ में ऑडिशन रखे जहाँ कॉलेज गर्ल फरहीन खान की पर्सनालिटी अभिन्यु को जंच गई और फरहीन ने मुख्य भूमिका को बेहतरीन ढंग से अंज़ाम दिया है ।   अभिमन्यु चौहान की इस फिल्म को कई फिल्म फेस्टिवल में अद्भुत सराहना मिली है ।

- संतोष साहू

Post a comment

 
Top