0

विशेष संवाददाता / मुंबई
रियल एस्टेट कंसल्टेंसी फर्म नाइट फ्रैंक की और से रिपोर्ट के मुताबिक कई बड़े शहरों में घरों की कीमत कम हो रही है और बिल्डर घर बेचने के ऑफर दे रहे हैं। घरों की कीमतों में कमी के चलते बेंगलुरू, दिल्ली NCR और चेन्नई में घरों की मांग २६%, ६% और २०% कम हुई है। वहीं मुंबई और पुणे में कुछ हद तक मांग में बढ़ोतरी आई है।
पिछले साल नोटबंदी, रियल इस्टेट रेग्युलेशन ऐक्ट (RERA) और जीएसटी लागू होने की वजह से आवासीय घरों की कीमत में गिरावट देखने को मिली है। 
इस रिपोर्ट के मुताबिक एनसीआर में घरों के दाम में सबसे ज्यादा ९% गिरावट आई है। जिसके चलते अब बिल्डर कई तरह के ऑफर और डिस्काउंट दे रहे हैं। जैसे स्टैंप ड्यूटी में रियायत के साथ ११-१३% डिस्काउंट। इस रिपोर्ट में यो भी कहा गया है कि हैदराबाद, अहमदाबाद में रेडी-टू-मूव इन घरों की मांग बढ़ी है।
दिल्ली NCR और बेंगलुरू में नए घरों के प्रोजेक्ट के लॉच में ५६% और ४१% की कमी आई है, जिसके कारण रियल स्टेट सेक्टर को भरी नुकसान हुआ है। NCR में ६% बिक्री कम हुई है, जिसकी वजह से ३७६५३ घरों की कीमत में २% तक की कमी आई है। 
रिपोर्ट के मुताबिक, नए प्रोजेक्ट में सस्ते घरों की सख्या में काफी बढ़ोतरी हुई है, वर्ष २०१७ में यह ८३% पहुंच गई है। इससे साफ है कि डेवलेपर्स ५० लाख के अंदर के घर ज्यादा बना रहे हैं।  इसका सबसे बड़ा कारण यह है कि केंद्र सरकारसस्ते घरों के लिए प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत लोन दे रही है।

Post a comment

 
Top