0


सफलता की राहों पर आगे बढ़ते हुए नृत्य निर्देशक संजीव शर्मा अपने गाने में हमेशा कुछ नया करने की कोशिश करते है। हल्दवानी नैनीताल में जन्मे कोरियोग्राफर संजीव को बचपन से कुछ अलग करने की चाहत थी। बचपन से ही डांस में रूचि थी। शुरूआती दिनों में घर से डांस के लिए सपोर्ट कम मिला। घर वाले चाहते थे की संजीव पढ़ लिख कर कोई अच्छी नौकरी करे। पर संजीव के लगन और मेहनत को देखकर घर वालों ने भी उन्हें नृत्य के क्षेत्र में अपना कैरियर बनाने की इजाज़त दे दी। एक कहाबत है कि मंज़िलें उसी को मिलती है जिसके सपनो में जान होती है, पंख से कुछ नहीं होता हौसलों से उड़ान होती है। और हुआ भी कुछ ऐसा ही । संजीव बतौर कोरियोग्राफर अपने कैरियर की शुरुआत करने मुम्बई आये। शुरू शुरू में मुंम्बई में बहुत सारी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। पर कोशिश रंग लाई और अपने कैरियर को आगे बढ़ाने के लिए और मुम्बई में टिके रहने के लिए संजीव ने बच्चों को डांस सिखाना शुरू किया। और इसी क्रम में फिल्म के निर्देशक सबसे मिलते रहे। मेहनत रंग लाई और फिर शुरू हुआ फिल्मो का सिलसिला।

संजीव की अबतक की फिल्मों में मोड़ द टर्निंग पोइन्ट, प्रारम्भ द बिगनिंग, निशान, जो अंदर फिट वो बाहर फिट, गोल्डन बॉय, लखनवी इश्क़, मिस्टर एम् बी ए, पीहू, युद्ध अस्तित्ववाची लड़ाई (मराठी) , विट्टल मराठी हैं। संजीव द्वारा निर्देशित अबतक दो सौ से ऊपर म्यूजिक वीडियो भी हैं। जो हिंदुस्तान के हर बड़ी म्यूजिक कंपनी से रिलीज है।

Post a comment

 
Top