0

इन दिनों दर्शकों को ऐसी फिल्में दिखाई जा रही हैं, जिन्हें हम किसी भी सूरत में पारिवारिक फिल्में नहीं कह सकते। ऐसी अधिकांश फिल्में सिर्फ मनोरंजन के मकसद से बनाई जाती हैं और तमाम ऐसे मसाले डाले जाते हैं जिससे युवा पीढ़ी पर बुरा प्रभाव पड़े, लेकिन लेखक-निर्देशक संदीप सोलंकी ने एक अलग रास्ता चुना, जो उन्हें महाराष्ट्र के गांव सैलानी तक ले आया, जहां सैलानी बाबा की सुपर नैचुरल पॉवर है। 

 महाराष्ट्र में बुलढाना के नज़दीक सैलानी गांव में संदीप दो साल पहले गए थे। वहां सैलानी बाबा की ताकत देखकर वह हैरान रह गए और उन्होंने तय कर लिया कि सैलानी बाबा की ताकत को वह उनके गांव तक ही सीमित नहीं रहने देंगे। यह पॉवर यूनिवर्सल है, जिसका पता पूरी दुनिया को होना चाहिए। बस, फिल्म की शुरूआत हो गई। संदीप कहते हैं कि सैलानी बाबा के पास वो शक्ति है जिससे बुरे साये और बुरी आत्माएं भी दूर भागती हैं इसलिए पीडि़त लोगों को उनके बारे में पता चलना चाहिए। उनकी शक्तियों के बारे में लोगों को बताने के लिए फिल्म से अच्छा और कोई माध्यम नहीं हो सकता है इसलिए मैंने हक-ए-सैलानी नाम से फिल्म शुरू की, जिसकी शूटिंग सैलानी गांव के अलावा कच्छ  भुज में की गई है जहां सैलानी बाबा का जन्म हुआ। सैलानी गांव के मुजावर अफसर शेख ने इसमें हमारी काफी मदद की, जिनकी बदौलत हम सैलानी गांव में शूटिंग कर पाए। संदीप कहते हैं कि बाबा के यहां आकर बड़े-बड़े डॉक्टर्स भी हैरान हो जाते हैं क्योंकि जिन बीमारियों को वह ठीक नहीं कर पाते, बाबा की शक्ति उसे ठीक कर देती है। 
 संदीप आगे कहते हैं कि फिल्म को हमने कॉमर्शियल रंग दिया है ताकि बाबा के चमत्कारों के साथ-साथ दर्शक फिल्म में रोमांस, इमोशन्स, एक्शन आदि तमाम पहलू देखें जिससे उनका मनोरंजन भी हो। फिल्म की स्टोरी में हमने हिंदू और मुसलमान-दोनों समुदायों को जोड़ा है जिनके बीच एक लव स्टोरी भी चलती है। यह फिल्म पूरा परिवार एक साथ देख सकता है। साथ ही मैं यह भी कहना चाहता हूं कि बाबा के यहां अमीर से लेकर गरीब तक सभी सिर झुकाते हैं। फिल्म का खास आकर्षण होगी एक कव्वाली, जिसमें बाबा की शक्तियों के बारे में बताया जाएगा।
आरएस एचआर टीम सोल्यूशन पी.वी.टी. एल.टी.डी.और जी ठाकुर श्री एंटरटेन्मेंट के बैनर तले बनी इस फिल्म के निर्माता हैं राजन गुप्ता और मोना शर्मा। सह निर्माता अर्चना मिश्रा , मुमताज़ लिखहत के लिखे गीतों को संगीत से सजाया है वैष्णव देवा ने। स्क्रीनप्ले और संवाद संदीप सोलंकी और शाहबाज़ खान के हैं। यह फिल्म 19 जनवरी को समस्त भारत में प्रदर्शन हो रही है।

पोस्ट - संतोष साहू

Post a comment

 
Top