0


आपराधिक न्याय प्रणाली को पारदर्शी और जवाबदेही सुनिश्चित करने के लिए सन 2002 में बनी सामाजिक संस्था सिटीजन फ़ॉर जस्टिस एंड पीस (सीजेपी) अब  मानवाधिकार और कानूनी संसाधनों के विस्तार के लिए वेबसाइट लांच करने जा रही है । सीजेपी ने हमेशा से पीड़ित , शोषित  दलित अल्पसंख्यकों और साम्प्रदायिक हिंसा में बचे लोगों के अधिकारों के लिए आवाज़ उठाया है। अब आदिवासी , महिला , बच्चों के साथ साथ एलजीबीटीक्यूआईए समुदाय के लिये भी सीजेपी आगे आ गया है । इन्हीं मानवाधिकार और कानूनी संसाधन को उद्देश्यपरक बनाने के लिए 26 नवम्बर को संविधान दिवस के अवसर पर सीजेपी ने www.cjp.org.in वेबसाइट की शुरुआत की है ।
 शांति और सद्भावना को बरकरार रखने में न्याय का प्रमुख योगदान रहता है इसी में पूर्ण विश्वास रखकर पिछले 15 वर्षों में सीजेपी ने एक बड़ा मुक़ाम बनाया है। साक्षीदार का संरक्षण, जांच में स्वतंत्रता, अभियोजन पक्ष और समयबद्ध परीक्षण यह सब सीजेपी ने आसान किया है। सीजेपी के सह संस्थापक और सचिव तीस्ता सीतलवाड़ ने कहा, ' आज संवैधानिक बुनियादी सिद्धांतों के बचाव पर जिस भारत की स्थापना हुई है, वह जीवंत और प्रतिनिधि लोकतंत्र के रूप में भारत के अस्तित्व के लिए महत्वपूर्ण है। यह समूह विभिन्न पृष्ठभूमि से मानव अधिकारों के रक्षकों के साथ मिलकर समाज मे नई सहकारिता का निर्माण कर रहा है ।
आगे तीस्ता बताती हैं, वर्तमान अनुदान के तहत, मुक्त अभिव्यक्ति का अधिकार, वन श्रमिकों के अधिकारों, आदिवासियों व दलितों के मूल अधिकार और सभी अल्पसंख्यकों पर हमला किया जा रहा है। यह हमारी पहल के सभी महत्वपूर्ण फोकस क्षेत्रों में है। न्याय और शांति के लिए नागरिक भी मानव अधिकारों के मुद्दों में अंतर को समझने और स्थायी गठबंधनों के निर्माण के महत्व को उजागर करने के लिए देख रहे हैं। एक बार जागरूक नागरिक की आवाज़ में एक दूसरे के लिए खड़े होकर मानवीय जरूरतों , अधिकारों और गरिमामयी मुद्दों पर काम करने वालों का समय आ गया है। सभी महिलायें, बच्चें और एलजीबीटीक्यूएआई के अधिकार इस संघर्ष के सभी महत्वपूर्ण स्तंभ हैं ।
सीजेपी ने पहले ही कई प्रमुख सामाजिक सदस्यों से समर्थन हासिल किया है। वेबसाइट के प्रक्षेपण के लिए व्यक्तिगत, वीडियो और ब्लॉगों के माध्यम से सीजेपी का समर्थन करने वाले कानून, कला, सिनेमा, पत्रकारिता और साहित्य के क्षेत्रों के प्रमुखों के साथ एक स्टार-स्टड प्रसंग होने की संभावना है, जो एक सामान्य दृष्टि के लिए एक साथ आ रहे हैं ।
- संतोष साहू

Post a comment

 
Top