0



डीडी किसान पर प्रसारित हो रही धारावाहिक 'किसके रोके रुका है सवेरा' में सूरज की भूमिका निभा रहे अभिनेता राजा गुरु ने अपने कैरियर की शुरुआत रंगमच से किया। उन्होंने विश्व के सबसे चर्चित और महंगे इंटरनेशनल प्ले 'मोहब्बत द ताज' का 300 से ज्यादा शो करके एक कीर्तिमान स्थापित किया। हिंदी धारावाहिक "अखियों के झरोखे से'' पहला म्यूजिकल धारावाहिक था जो महुआ चैनल पर प्रसारित हुआ। यह धारावाहिक अमिताभ बच्चन की फ़िल्म "अभिमान" से प्रेरित था। इसके बाद "दिल आशना है" जिसका प्रसारण दूरदर्शन पर हुआ था। इन दोनों ही धारावाहिको में राजा गुरु के किरदार को खूब पसंद किया गया। और देखते ही देखते राजा गुरु छोटे पर्दे के स्टार बन गए। 

छोटे पर्दे के बाद तो बड़े पर्दे भी छा जाने की बारी थी और 2018 में प्रदर्शित फ़िल्म 'धप्पा' में उन्होंने अपने जबरदस्त अदाकारी  से साबित कर दिया कि कलाकार के लिए छोटा या बड़ा पर्दा कोई मायने नही रखता है। उसे तो बस अपनी अदाकारी की अमिट छाप छोड़नी है। राजस्थानी फ़िल्म 'औलाद' में भी उनके अभिनय के खूब चर्चे रहे। इतना ही नही उनकी शार्ट फ़िल्म 'द लांग ड्राइव' को देश के सबसे चर्चित पुरस्कार दादा साहेब फाल्के एकेडमी अवार्ड से सम्मानित किया गया। राजा गुरु की आने वाली फिल्मों की बात करे तो उनकी आने वाली फ़िल्म का नाम है 'जिला टॉप'। स्कूल माफिया के पृष्ठभूमि पर आधारित इस फ़िल्म में राजा गुरु एक बार फिर एक जबरदस्त किरदार में नजर आएंगे। फिलहाल, इन दिनों वह डी डी किसान पर प्रसारित हो रहे धारावाहिक ''किसके रोके रुका है सवेरा'' में अपने किरदार को लेकर चर्चा में हैं। हाल ही में इस धारावाहिक ने 50 एपिसोड पूरे किए।

Post a comment

 
Top