0

(लेखक: प्रथमेश माल्या, एवीपी-रिसर्च, नॉन-एग्री कमोडिटी एंड करेंसी, एंजल ब्रोकिंग लिमिटेड)

ब्रेंट ($39- $43 / बैरल) और डब्ल्यूटीआई ($36-$41/ बैरल) ऑयल कीमतें 8 सितंबर से $5 की सीमा में फंस गई हैं, जिसमें ट्रेंड की कोई स्पष्ट और निर्णायक दिशा नहीं है और आगे क्या होगा इसे लेकर ग्लोबल स्तर पर निवेशक दुविधा में है। ऑयल मार्केट्स में कई कारक हैं जिसमें चीनी ऑयल इम्पोर्ट का स्टोरेज बढ़ाने से लेकर, ओपेक और संबद्ध उत्पादकों की ओर से तेल बाजारों को संतुलित करने की एक्शन, लीबिया में तेल उत्पादन फिर शुरू करने, ग्लोबल स्तर पर कोरोनोवायरस के पुनरुत्थान की चिंताओं से होती है। यह फेक्टर्स और तेल बाजारों की मौजूदा डायनामिक्स तेल की कीमतों में आगे की टोन सेटिंग के लिए पूर्वानुमान की आवश्यकता है। 

ऑयल मार्केट्स को बेलेंस करने के लिए ओपेक एक्शन: ओपेक और संबद्ध उत्पादकों ने कहा है कि वे तेल बाजारों को संतुलित करने के लिए जो भी आवश्यक होगा वे सब करेंगे, और कार्टेल ने हाल ही में प्रतिज्ञा ली है कि "ओपेक+ प्रति दिन 7.7 मिलियन बैरल (बीपीडी) उत्पादन कम कर रहा है इससे पहले उसने 1 मई से 1 अगस्त तक कुल 9.7 मिलियन बीपीडी की उत्पादन में कमी लाई थी। इसके अलावा, ओपेक+ जनवरी 2021 में दो मिलियन बीपीडी से कटौती को कम करने के लिए है। दूसरी तरफ लीबिया भी तेल उत्पादन और अपने सबसे बड़े क्षेत्र शरारा से उत्पादन बढ़ा रहा है, जो 11 अक्टूबर को फिर से खुल गया और अब लगभग 150,000 बीपीडी, या लगभग आधी क्षमता के साथ काम कर रहा है।

ओपेक द्वारा अतिरिक्त आपूर्ति 2% बढ़ाने और लीबिया में तेल क्षेत्रों में फिर उत्पादन शुरू होने से तेल बाजारों में आवश्यक आपूर्ति से अधिक तेल आ जाएगा। इसका अच्छा हिस्सा यह है कि डिमांड महामारी के पूर्व स्तर के लगभग 92% तक लौट आई है जो यह सुनिश्चित करेगी कि अतिरिक्त आपूर्ति बाजारों में अवशोषित हो जाएगी।

वैश्विक अनिश्चितता और कोविड का पुनरुत्थान: 20 अक्टूबर को कोविड-19 मामलों की ग्लोबल टैली यूरोप और उत्तरी अमेरिका में बढ़ती दूसरी लहर के साथ लगभग 40 मिलियन हो गई है, जो नए क्लैंपडाउन को बढ़ा रही है। इसके अलावा अमेरिकी कोरोनावायरस सहायता पैकेज की लुप्त होती उम्मीदों ने दुनियाभर में जोखिमपूर्ण असेट्स को एक झटका दिया, यूरोप में कोरोनोवायरस संक्रमण बढ़ने के साथ सिंगल करेंसी का वजन भी बढ़ गया।

यूके में ब्रिटेन के प्रमुख ब्रेक्जिट निगोशिएटर डेविड फ्रॉस्ट ने कहा कि यूरोपीय संघ के साथ ट्रेड टॉक्स फिर से शुरू करने का कोई बेस नहीं है जब तक कि बातचीत को लेकर ब्रसेल्स के नजरिये में बुनियादी बदलाव नहीं होता। हाल के रॉयटर्स पोल्स ने सुझाव दिया कि बैंक ऑफ इंग्लैंड अगले महीने इकोनॉमी को सपोर्ट करने के लिए अपनी क्वांटिटेटिव पहल करना चाहिए ताकि कोरोनावायरस लॉकडाउन और नो-डील ब्रेक्जिट के डर की वजह से संघर्ष कर रही इकोनॉमी को सपोर्ट मिल सके। जापान में, केंद्रीय बैंक को अगले सप्ताह के रेट रिव्यू में चालू वित्त वर्ष के लिए अपनी वृद्धि और मूल्य पूर्वानुमान में कटौती की उम्मीद है।

ऑयल स्टोरेज में चीनी फ्लो लगातार बढ़ रहा है: दुनिया के सबसे बड़े तेल आयातक चीन ने सितंबर में तेल आयात की मात्रा में वृद्धि की है और रॉयटर्स की गणना के अनुसार अपने स्ट्रैटेजिक पेट्रोलियम रिजर्व में क्रूड फ्लो सितंबर में लगभग 1.75 मिलियन बैरल प्रति दिन था, जो 1.83 से थोड़ा कम है। वर्ष के पहले नौ महीनों के लिए मिलियन बीपीडी औसत है, हालांकि अभी भी संपूर्ण रूप में 2019 के लिए 940,000 बीपीडी से अधिक है। यह स्पष्ट रूप से बताता है कि चीन की अर्थव्यवस्था कोरोनोवायरस चिंताओं के एपिसेंटर होने से स्थानांतरित हो गई है ताकि तेल बाजारों के लिए एक आशा की किरण बन जाए।

तेल की कीमतें कहां जा रही हैं?: तेल बाजारों में असंतुलन महामारी की वजह से मांग कम होने के कारण ओवरसप्लाई की वजह से है। यूरोप और उत्तरी अमेरिका में इसकी दूसरी लहर में कोविड-19 के पुनरुत्थान से तेल बाजारों में रिकवरी के लिए और अधिक संकट पैदा कर दिया है और मांग में सुधार में उम्मीद से अधिक वक्त लग सकता है।

दुनिया भर में महामारी की वजह से भावनात्मक माहौल भी निराशावादी है जबकि अमेरिका में कोरोना रिलीफ पैकेज की चर्चा है, जिस पर फैसला होना है कि क्या 3 नवंबर के राष्ट्रपति चुनावों से पहले वित्तीय सहायता का एक और बूस्टर होगा। पिछले दो महीनों से तेल की कीमतें सीमित दायरे में ऊपर-नीचे हो रही हैं और बाजार के मौजूदा डायनामिक्स में तेल की कीमतों में अधिक वृद्धि के लिए कोई जगह नहीं है। हमें लगता है कि ब्रेंट और डब्ल्यूटीआई तेल की कीमतों में $ 33/bbl के बाद $35 के प्रति तेज सुधार हो सकता है। एमसीएक्स पर, तेल की कीमतें एक महीने के समय में 2650 / bbl के निशान से कम हो सकती हैं।

Post a comment

 
Top