0

भारत में इस समय स्टॉक ट्रेडिंग ट्रेंड में है। यह ट्रेंड असली है और यदि आप अच्छा-खासा कमाना चाहते हैं तो आपको उस पर भरोसा करना होगा। आप मेज पर बैठे नहीं रहना चाहते। आपको भी कुछ कमाना है। आप भी बहुत कुछ करना चाहते हैं! दूसरे शब्दों में, सब-ब्रोकिंग आपके लिए बेस्ट है।
एक सब-ब्रोकर वह होता है जो निवेशकों को बाजारों में प्रतिभूतियों की खरीद और बिक्री में मदद करता है। सब-ब्रोकर स्टॉक एक्सचेंज का ट्रेडिंग मेंबर नहीं है, लेकिन वह ग्राहकों को सेवाएं देने में स्टॉक ब्रोकरों की सहायता करता है।
एक बार जब आप एक सब-ब्रोकर बनने का फैसला कर लेते हैं, तो जानिए कि आपको क्या करना होगा:
1. योग्यता: आपकी न्यूनतम योग्यता 10 + 2 या हायर सेकंडरी सर्टिफिकेट होगी। हालांकि, कुछ ब्रोकर आपको अपने सब-ब्रोकर के रूप में नियुक्त करने से पहले कम से कम स्नातक की डिग्री पसंद कर सकते हैं। वित्तीय बाजारों के बारे में आपको ज्ञान होना चाहिए। कई परीक्षाएं हैं जो आप एक अच्छा ब्रोकर बनने के लिए योग्यता साबित करने के लिए दे सकते हैं। कुछ प्रसिद्ध परीक्षाएँ हैं, एनसीएफएम (एनएसई सर्टिकेशन ऑन सिक्योरिटी मार्केट्स), बीसीएसएम (बीएसई सर्टिफिकेशन ऑन सिक्योरिटी मार्केट्स), एनआईएसएम कोर्सेस, आदि।
2. दस्तावेजीकरण: जब आप और आपके ब्रोकर की योग्यता मिल जाती हैं तो आपको दस्तावेजीकरण करना होगा। इसमें पैन कार्ड, आधार कार्ड और एजुकेशन प्रूफ (जैसे कुछ ब्रोकर 10 + 2 की शैक्षिक योग्यता को अनिवार्य करते हैं) जैसे कुछ आईडी दस्तावेज देने होंगे। इसके अलावा, आपके निवास और आपके कार्यालय के पते का प्रमाण तस्वीरों के साथ और सीए के रेफरेंस लेटर की आवश्यकता होगी। जांच लें कि क्या इसके अलावा भी कुछ आवश्यक है।
3. बुद्धिमानी से ब्रोकरेज फर्म चुनें: आपको कभी भी ऐसा कुछ नहीं बेचना चाहिए, जिसे कोई खरीदने को राजी न हो। इस वजह से ब्रोकरेज फर्मों के बारे में गहन रिसर्च करें। निवेशक किसे पसंद कर रहे हैं, जानने की कोशिश करें। आपके ब्रोकर के पास अच्छी ब्रांड इक्विटी और रिकॉल वैल्यू होनी चाहिए। नए ग्राहक हासिल करने में मददगार होगा। आम तौर पर, ग्राहक उन फर्मों को प्राथमिकता देते हैं जिनके पास फ्लैट फी स्ट्रक्चर, वैल्यू-एडेड सर्विसेस होती हैं, और स्पॉट-ऑन सिफारिशों भी देती हैं।
4. आवश्यकताओं को जांच लें: सब-ब्रोकर बनने की कुछ शर्तें होती हैं जिन्हें आपको पूरा करना होगा। एक सब-ब्रोकर या मास्टर फ्रैंचाइज़ी मालिक के रूप में आपको लगभग 200 वर्ग फुट के ऑफिस स्पेस की आवश्यकता होगी। यह स्पेस आमतौर पर ब्रोकरेज फर्म पर निर्भर करता है, जिसके साथ आप जा रहे हैं। आपको लगभग एक से दो लाख या उससे अधिक रुपए का रिफंडेबल शुल्क भी जमा करना होगा। अंत में अपने ब्रोकर की कमीशन स्ट्रक्चर जांच लें। हालांकि, वर्तमान परिस्थितियों के साथ और वर्क-फ्रॉम-होम विकल्प के साथ, व्यावसायिक स्पेस की आवश्यकता वैकल्पिक हो सकती है।
5. बुनियादी जानकारी दें: शुरुआत में कॉलबैक का अनुरोध करें। आपके व्यापार से जुड़े कुछ बुनियादी सवाल पूछे जाएंगे, अन्य विवरण के साथ। यह सुनिश्चित करेगा कि आगे बढ़ने से पहले आप और आपके ब्रोकर दोनों एक-सा सोच रहे हैं।
6. रजिस्ट्रेशन फी और अकाउंट एक्टिवेशनः अंत में, आपको रजिस्ट्रेशन फी जमा करनी होगी। भुगतान करने के बाद आपको अपने खाते का बिजनेस टैग प्राप्त होगा। आपके ब्रोकर के आधार पर, आप और आपके कर्मचारी ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म, कस्टमर सपोर्ट और मार्केटिंग मैकेनिज्म पर ट्रेनिंग और जानकारी प्राप्त करेंगे।
भारत एक अरब से अधिक लोगों की आबादी का देश है। इसके बाद भी यहां रिटेल पार्टिसिपेशन बहुत कम है। शेयर बाजार सबसे अच्छे निवेश साधनों में से एक हैं। वे पारंपरिक निवेश उत्पादों की तुलना में बेहतर रिटर्न देने के लिए जाने जाते हैं। बढ़ते डिजिटाइजेशन और जागरूकता के साथ भारत में शेयर बाजारों में रिटेल पार्टिसिपेशन तेजी से बढ़ रही है। लेकिन अब भी पूरी क्षमता का दोहन नहीं हो सका है। इससे लोगों को सब-ब्रोकर के पेशे को अपनाने के पर्याप्त अवसर मिलेंगे।

Post a comment

 
Top