0

सुशांत सिंह राजपूत के आकस्मिक और दुर्भाग्यपूर्ण निधन ने पूरे देश को स्तब्ध कर दिया है। मीडिया में अटकलों का बाज़ार गर्म है और सोशल मीडिया ने अपनी हिट-एंड-मिस विचारधारा के साथ दोषी ठहराना शुरू कर दिया है, जिसके तुरंत बाद, सलमान खान को इसके लिए जिम्मेदार ठहराया गया।
ट्रेड एनालिस्ट कोमल नाहटा कहते हैं सोशल मीडिया के साथ कई लोगों का कहना कि सलमान खान, सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या के लिए जिम्मेदार थे, यह कहना उतना ही बेहूदा है, जैसे पाकिस्तान ने भारत में चक्रवात निसर्ग भेजा है, या शाहरुख खान 'पद्मावत' के खिलाफ राजपूत विद्रोह के लिए जिम्मेदार थे। यह आश्चर्यजनक है कि दीपिका पादुकोण के मेन्टल डिप्रेशन के लिए कोई भी सलमान को दोषी नहीं ठहरा रहा है।
वह आगे कहते हैं, ''नकारात्मक लोगों को समझना चाहिए, बाकी अभिनेता-निर्माताओं की तरह, सलमान भी फ़िल्मे बनाने और अभिनय करके सपने बेचने के व्यवसाय में हैं। एक आत्महत्या मामले में उनका नाम खींचना बेबुनियाद है। अगर अमेरीका में ऐसा होता तो सलमान झूठ बोलने के अपराधियों के खिलाफ करोड़ों डॉलर का मानहानि का मुकदमा दायर कर सकते थे। सिद्धांत के प्रचार के लिए ऐसी पत्रकारिता पर शर्म आती है।
सोशल मीडिया तेजी से और गलत तरीके से अजीब व फर्जी कहानियों का पनपता स्थल बन गया है। देश के नागरिकों को यह समझना होगा कि कैसे गलत धारणाओं के कारण, मनगढ़ंत कहानियाँ लोगों के जीवन को प्रभावित करती हैं।

Post a comment

 
Top