0


     फोटोग्राफरो ने आत्मदाह करने जैसा दे डाला धमकी

मुम्बई: जहां एक तरफ शुटिंग शुरु करने की खबर फिल्म कलाकारों और श्रमिको में खुशी की लहर पाया गया वहीं शुटिंग की गाइड लाइन पढ़कर फोटोग्राफर आक्रोशित हो गए. उनका कहना है कि पहले भी प्रोड्क्शन द्वारा कहा जाता रहा है फोटोग्राफर की कोई जरुरत नहीं और प्रोड्क्शन के लोगों द्वारा मोबाईल से फोटोग्राफी किया जाता रहा है और पोस्टर डिजाईन के लिए किसी बड़े फोटोग्राफर द्वारा फोटो शुट किया जा रहा है. ऐसे में अगर हम फोटोग्राफर को काम मिलना मुश्किल होगा ।
   जब सिने स्टिल टीवी एण्ड मोशन फोटोग्राफर एसोसिएसन मेंबरों से बात करने के लिए बालीवुड के मीडिया फोटोग्राफर राजेश कोरील से संपर्क किया तो पता चला कि वह भी इसके सदस्य है. कोरिल ने बताया कि हमारे यूनियन में रजिस्ट्रर्ड 636 सदस्य हैं जिसमें 500 से अधिक सदस्य सक्रीय है. इसके अलावा शिवसेना चित्रपट शाखा, मनसे, बीजेपी के भी सदस्य है. रही बात आक्रोश की तो हमें समय समय पर हमें जलील किया जाता रहा है. आज डीजिटल का जमाना है जहां पर कोई फोटोग्राफी पर अपने पर हक जताते हैं मेरे साथ की एक घटना हुआ था महबूब स्टूडियो में एक शूट समय हमें डमी फोटोग्राफर बनाने की कोशिश की गई थी मैं फोटोग्राफी का डिप्लोमा होल्डर हूं. हमने एक फोटोग्राफर के तौर पर स्क्रीन भी शेयर किया है. क्या मुझे फोटोग्राफी नहीं आता मैं खड़ा रहूं डमी बनकर कि यूनियन का कार्ड चेक करने आए तो मैं बोलूं. समय समय पर हम फोटोग्राफर को जलील किया जाता है कभी कन्टीन्युटी फोटोग्राफर बोल कर आज हमारे लिए इनके पास बजट नहीं होता मगर ए चैनल से हमारे नाम पर एक मोटी रकम चार्ज करते हैं हमें उसका आधा भी पे नहीं करते इसलिए कितने फोटोग्राफर अपना व्यवसाय बदल लिया है. प्रोड्क्शन हाऊस की तरफ से एक साज़िश है हमें काम पर ना रखने की इनका तो काम मोबाईल फोन से हो जाएगा पर से रोजगारी हमारी होगी इसका विरोध हम कर रहे हैं. 1/06/2020 तक का समय दिया गया है कि हमारी मौजूदगी अनिवार्य नहीं किया गया तो हम आंदोलन करेंगे.
 शुटिंग के समय सेट पर फोटोग्राफर नहीं पाया गया तो हम इसके विरोध में कोई कड़ा कदम भी उठाने से पीछे नहीं हटेगें जो असहनीय होगा.

Post a comment

 
Top