0

मुंबई : पिछले हफ्ते कच्चे तेल की कीमतों में 20 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि हुई है, जो पेट्रोलियम निर्यातक देशों के संगठन द्वारा उत्पादन कटौती के आक्रामक उपाय की देन है। संगठन ने 1 मई 2020 से प्रति दिन अपने उत्पादन में 9.7 मिलियन बैरल की कमी की। एंजल ब्रोकिंग लिमिटेड के नॉन-एग्री कमोडिटीज एंड करेंसीज के चीफ एनालिस्ट प्रथमेश माल्या ने बताया कि सऊदी अरब ने कच्चे तेल के निर्यात को दस साल में निम्नतम स्तर पर ला दिया है और कच्चे तेल के लिए ऑफिशियल सेलिंग प्राइज (OSP) बढ़ाया। हालांकि, हवाई और सड़क यातायात पर प्रतिबंधों ने कच्चे तेल की कीमतों में किसी भी संभावित वृद्धि को दबाया है, क्योंकि यह इन उद्योगों का हिस्सा बहुत महत्वपूर्ण है।
पिछले हफ्ते स्पॉट गोल्ड की कीमतें 1.2 प्रतिशत तक बढ़ गईं क्योंकि सबसे महत्वपूर्ण अर्थव्यवस्थाओं से कमजोर आर्थिक आंकड़ों ने सोने की कीमतों में वृद्धि का समर्थन किया। तेल की कीमतों में सुधार और महामारी से संबंधित उपायों को हटाने से सोने की लागत में वृद्धि सीमित हुई। अमेरिकी डॉलर में सुधार से अन्य मुद्रा धारकों के लिए सोना महंगा हो गया, जिससे पीली धातु की कीमतों में तेजी आई।
पिछले हफ्ते, स्पॉट सिल्वर की कीमतें 2.86 प्रतिशत बढ़कर 15.5 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुईं। एमसीएक्स पर कीमतें 5.6 प्रतिशत बढ़कर 43,293 रुपए प्रति किलो रहीं।

Post a comment

 
Top