0

मुंबई, 11 दिसंबर, 2018: पहली बार, रोल मॉडल स्केटर्स और एम्पल मिशन के बीच एक गठबंधन किया गया - और इसका बस एक ही कारण है, एक नया विश्व रिकॉर्ड। 22 दिसंबर, 2018 को मुंबई में इस रिकॉर्ड के लिए कोशिश की जायेगी और इसके सफ़र की शुरुआत एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में मुख्य कार्यक्रम की घोषणा और उसकी एक झलक के साथ शुरू हुआ। स्केटिंग रिकॉर्ड में दो भाग होंगे - ज़िग ज़ैग स्केटिंग और रोलर स्केट्स के साथ बास्केटबॉल को ड्रिबल करने वाले बच्चे और एक बच्चा होगा, जो आँखों पर पट्टी बाँधकर हूला हूपिंग करते हुए इनलाइन स्केटिंग करेगा।
गिनीज़ रिकॉर्ड धारक ऋषि सरोडे, संस्थापक और निदेशक, रोल मॉडल स्केटर्स, पिछले 34 सालों से स्केटिंग कर रहे हैं और उन्होंने कई बार भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए विश्व रिकॉर्ड बनाये हैं और विभिन्न रिपोर्ट्स और रायटर्स के अनुसार भारत के एक बेहतरीन स्केटर है। ऋषि सरोडे का मानना है कि सीखना एक सतत प्रक्रिया है और अपने छात्रों में उनके संस्कार और शिक्षा को समाहित करने के बारे में वे बेहद जुनूनी हैं। इस अवसर पर बोलते हुए ऋषि ने कहा, "मैं बहुत ही सीधे-सादे घर से आया हूँ और मुझे सारी रुकावटों को दूर करने के लिए और अपने माता-पिता को यह समझाने में बहुत प्रयास करने पड़े कि स्केटिंग एक दिलचस्प खेल है और उसका नतीज़ा आज आपके सामने है। मैंने हजारों छात्रों को प्रशिक्षण दिया है चाहे वो बड़ी हस्तियाँ हों, नेता हों, सरकारी बाबू हों या आम आदमी हो, कोई भी इस खेल को सीखने में झिझकता नहीं है और न ही अपने बच्चों को रोकता है।"
एक सामाजिक जागरूकता के संस्थान, एम्पल मिशन की पहचान - डॉ अनील काशी मुरारका ने इस अनूठे प्रयास को अपना समर्थन दिया। प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष क्रिया के जागरूकता अभियानों के माध्यम से समाज में बदलाव लाने के उनके प्रयासों को व्यापक रूप से मान्यता प्राप्त हुई है। "हम एम्पल मिशन में  आज के युग के बच्चों के प्रति अपना योगदान देकर अपना काम करने में विश्वास करते हैं ताकि हमारे भारत का भविष्य उज्ज्वल हो और बच्चों को एक अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी प्रतिभा और कौशल दिखाने के लिए सक्षम बनाने वाला यह असाधारण मंच प्रदान करने के लिए मैं रोल मॉडल्स स्केटर्स से जुड़ने पर सम्मानित महसूस कर रहा हूँ।
22 दिसंबर, 2018 को इस रिकॉर्ड के लिए हीरानंदानी इंटरनेशनल स्कूल, बीएमसी ग्राउंड, जलवायु विहार रोड, पवई में रिकॉर्ड अधिकारियों, प्रयास करने वाले बच्चों के माता-पिता के समक्ष और बच्चों का उत्साह बढ़ाने के लिए मौजूद रहने वाले बहुत से समर्थकों के बीच प्रयास किया जायेगा।
इस खेल में भाग लेने वाले बच्चे हैं जश सरोडे - 9 साल, अद्वैत सालस्कर - 8 साल, दुर्वा ठक्कर - 5 साल, आर्यन शुक्ला - 5 साल 11 महीने, वेदांत गुप्ता - 8 साल 03 महीने, स्वतित डुंगरिया - 7 साल, साएशा सतावत - 7 साल, किआन शेख - 7 साल 11 महीने, रेहान खान - 7 साल 09 महीने, जनीष गजरा - 9 साल 05 महीने, की आरा अंबानी - 7 साल 02 महीने, सराना नदर - 7 साल।

Post a comment

 
Top