0

३२ बच्चे अब भी बिमारी की हालत में, मामले ने तूल पकड़ा
सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करेंगे कांग्रेसी
मि.प. संवाददाता / मुंबई
      मुंबई के उपनगर जोगेश्वरी पूर्व में बाल विकास मंदिर नामक सरकारी अनुदानित स्कूल में जहां मिड-डे मील में दी गई खिचड़ी खाने से ३२ बच्चों की तबीयत खराब हो जाने का मामला तूल पकडता जा रहा है। वहीं किसी संस्था द्वारा दी गई खिचडी पर भी कई सवाल खड़े होकर कई लोग संदेह के दायरे में आ गए हैं। यह मामला अब राजनितिक तूल पकड़ लिया है। जिसके चलते कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शौकत अलि एम. लोखंडे ने राज्य सरकार एवं स्थानीय विधायक एवं नगरसेवक पर निशाणा साधते हुए कहा कि संबधित दोषियों पर कार्रवाई नहीं हुई तो कांग्रेस दल सडकों पर उतरकर प्रदर्शन करेगा। 
     ज्ञात हो कि महानगरपालिका के जरिए स्कूल के बच्चों के पोषण का ध्यान रखते हुए बच्चों को मिड-डे मील दिया जाता है, लेकिन इसी मिड-डे मील से विषबाधा होने की घटना सामने आई है। महानगरपालिक के जरिए निजी संस्था द्वारा ये खिचड़ी बच्चों को दी गई थी। जोगेश्वरी स्थित स्कूल के बच्चों को ये खिचड़ी खिलाने का काम एक निजी संस्था को दिया गया था। कल सुबह खिचड़ी खाते ही बच्चों को उल्टी, चक्कर जैसी शिकायतें होने लगीं। शौकत अलि के मुताबिक हालांकि विषबाधा का यह पहला मामला नहीं है, इस प्रकार की कई घटनाएं घट चुकी है जिससे मिड-डे मिल खाने के बाद बच्चों को विषबाधा हुई। बावजूद इससे सरकार व प्रशासन कोई ठोस कदम न उठाकर बच्चों की जिंदगी से खिलवाड कर रही है। 
      पीडित सभी बच्चों को आज भी पास के कोंकण हॉस्पिटल में भर्ती कर इलाज कराया जा रहा है। बच्चों को हॉस्पिटल में सलाइन लगाई गई। तुरंत इलाज मिलने से बच्चों की तबीयत में सुधार है। इस घटना के बाद से पैरेंट्स में डर और चिंता का माहौल देखा गया। लापरवाही बरतनेवाली संस्था पर कार्रवाई की जाएगी, ऐसा शिक्षण सुधार समिती के अध्यक्ष एवं नगरसेवक अनंत नर ने कहा है।

Post a comment

 
Top